सौर मंडल या सोलर सिस्टम की पूरी जानकारी | Solar System in Hindi

Share the knowledge

Estimated reading time: 8 minutes

Solar system in Hindi: के बारे में बच्चों को छोटी क्लास से ही पढ़ाया जाता है| मुझे पूरा भरोसा है कि आपने ने भी इस टॉपिक को पहले पढ़ रखा होगा| लेकिन मैं आज आपको solar system के बारे में compatitive exams के perspective से पूरी जानकारी दूंगा, जिससे आपको इंटरनेट पर किसी और आर्टिकल पर न जाना पड़े|

"Let's talk about Solar System in Hindi"

इसके अतिरिक्त Solar system टॉपिक पर सभी exams में कुछ न कुछ सवाल पूछे ही जातें है| इसलिए भी ये टॉपिक महत्वपूर्ण है|

सौरमंडल किसे कहते हैं | About Solar System in Hindi

सूर्य और इसके चारो ओर elliptical shape में चक्कर लगाते गृह, उपग्रह, धूमकेतु (Comet), उल्का (meteor), और क्षुद्र ग्रहों (Asteroids) के समूह को सौर मंडल कहतें हैं| जिसके केंद्र में सूर्य स्थित है और बाकि सारे आकाशीय पिंड इसका चक्कर लगातें हैं|

हमारे सौर मंडल में कितने गृह हैं? अगर ये पूछा जाए तो आप सभी बता देंगे कि हमारे सोलर सिस्टम में 8 गृह हैं|

महत्वपूर्ण सूचना:  महत्वपूर्ण study material तथा टिप्स और ट्रिक्स के लिए नीचे दिए गए links पर क्लिक करके हमे जरूर फॉलो करें -

सौर मंडल की उत्पत्ति कैसे हुई?

सौर मंडल की उत्पत्ति:  सौर मंडल की उत्पत्ति 5 बिलियन साल पहले हुई थी जब एक नए तारे का जन्म हुआ था जिसे हम सूर्य के नाम से जानते हैं। किसी तारे के आस-पास परिक्रमा करते हुए उन खगोलीय वस्तुओं के समूह को ग्रहीय मंडल कहा जाता है| जबकि परिक्रमा करते हुए खगोलीय पिंड तारे न हों जैसे कि ग्रह, बौने ग्रह, प्राकृतिक उपग्रह, उल्का, धूमकेतु और खगोलीय धूल।

चूँकि हमारे तारे का नाम सूर्य है इसलिए इसके गृहीय मंडल को सौर मंडल कहतें है| तो कुछ इस तरह हुई थी हमारे सौर मंडल की उत्पत्ति|

सूर्य (The Sun)

हमारा सौरमंडल जिस galaxy या मंदाकिनी में आता है उसे आकाश गंगा या Milkyway कहा जाता है| आकाशगंगा एक सर्पाकार galaxy है| इसमें लगभग 100 अरब (100 Billion) तारें हैं| हमारा सूर्य इन्ही तारों में से एक है| सूर्य पृथ्वी का निकटतम तारा है|

सूर्य की पृथ्वी से औसत दूरी 14.98 करोड़ किमी है| और पृथ्वी की तुलना में इसका व्यास 109 गुना है|

  • सौर मंडल का 99.85 % mass सूर्य में निहित है|
  • सूर्य में लगभग 71% हाइड्रोजन, 26.5 % हीलियम, और 2.5 % अन्य तत्व हैं|
  • सूर्य की गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण ही विभिन्न गृह तथा अन्य celestial bodies इसके चक्कर लगातें हैं|
  • सूर्य विभिन्न रूप में निरंतर ऊर्जा का उत्सर्जन करता रहता है|
  • सूर्य के आसपास की दीप्तिमान सतह को प्रभामंडल या photo sphere कहतें हैं|
  • सूर्य ग्रहण के समय दिखाई देने वाले भाग को सूर्य किरीट या corona कहतें है|
  • सूर्य से निरंतर दृश्य, अदृश्य तथा अवरक्त प्रकाश पराबैंगनी (ultraviolet) किरणों, एक्स रे, गामा रे को रेडियो तरंग या प्लाज्मा के रूप में उत्सर्जन होता रहता है|

सौर पवन (Solar Wind in Hindi): सूर्य के कोरोना से बाहर की ओर प्रवाहित होने वाली प्रोटोन की धाराओं को सोलर विंड कहते हैं| इनका निर्माण प्लाज़्मा या ionised गैसों से होता है|

  • सूर्य के कोरोना में स्थित काली रेखाओं को फ्रॉनहॉपर लाइन्स कहा जाता है|
  • सूर्य में चमकीले धब्बों को Plages एवं काले धब्बों को Sun Spot कहते हैं|
  • जिस समय Sun Spot दिखाई देता है उस समय पृथ्वी पर magnetic storm उत्पन्न हो जाता है| और टीवी और कई electricity से चलने वाले उपकरणों में खराबी आ जाती है|

सौर ज्वाला (Solar flame): जब सूर्य की सतह पर दहकती हुई गैसें हज़ारों किलोमीटर ऊपर उठती है, तब इन्हे Solar flame कहते हैं|

सूर्यातप (insolation): जो विकिरण सूर्य से पृथ्वी तक पहुँचती है उसे insolation या सूर्यातप कहते है|

ये भी पढ़ेंGeography notes in Hindi

सौर मंडल में कितने गृह हैं?

हमारे सौर मण्डल में 8 परंपरागत गृह है| इसके आलावा बहुत से आकाशीय पिंड है जैसे बौने गृह या क्षुद्र गृह| चलिए गृहों के वर्गीकरण के बारे में जानतें है|

गृह कितने प्रकार के होतें है: दुनिया भर के खगोलशास्त्रियों का एक संघठन है International Astronomical Union. 2006 में IAU के एक सम्मलेन में सौरमंडल के पिंडो को 4 भागो में बांटा गया था|

  1. परंपरागत गृह: बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल, बृहस्पति, शनि, अरुण और वरुण
  2. बौने गृह: प्लूटो, शेरॉन, सेरस
  3. आंतरिक गृह: बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल
  4. बाह्य गृह: बृहस्पति, शनि, अरुण और वरुण
    • ये गैसीय प्लेनेट हैं|
    • इन्हे Jovian planet कहते हैं|

बुध गृह (Mercury)

सूर्य के सबसे निकट गृह है बुध| चलिए बुध गृह के बारे में कुछ बातें जानते हैं-

  • यह गृह सूर्य के चारो 88 दिन में अपना चक्कर पूरा कर लेता है|
  • परन्तु इसकी घूर्णन गति बहुत कम है| बुध गृह का एक दिन पृथ्वी के 58 दिन 15 घंटे के बराबर होता है|
  • यहाँ पर दिन बहुत गर्म 427°C और रातें बहुत ठंडी -173°C तक होती हैं|
  • बुध का कोई उपग्रह नहीं है|
  • सूर्य से औसत दूरी है 0.39 au.
Note- 1 au (Astronomical Unit) = 150 million KMs 

शुक्र गृह (Venus)

सूर्य से दूसरा सबसे नजदीक गृह शुक्र है| इसके वातावरण में कार्बन डाई ऑक्साइड (90%-95%) की अधिकता होने के कारण यह सौरमंडल का सबसे गर्म गृह है|

  • यह पृथ्वी का सबसे निकटतम गृह है|
  • इसे पृथ्वी का जुड़वाँ गृह भी कहतें है|
  • इस गृह पर घने बादल पाए जातें है|
  • Co2 के कारण दिन जितना गर्म होता है रातें भी उतनी ही गर्म होती है|
  • इस गृह पर एक दिन पृथ्वी के 243 दिनों के बराबर होता है|
  • यहाँ का साल पृथ्वी के 224.7 दिनों के बराबर होता है|

पृथ्वी गृह (Earth)

पृथ्वी यानी हमारा घर सौर मंडल का सबसे सघन गृह है| सूर्य से दूरी के आधार पर यह तीसरा तथा आकार के आधार पर यह पांचवा सबसे बड़ा गृह है| यहाँ पानी ठोस, द्रव और गैस तीनो अवस्थाओं में पाया जाता है|

इसे नीला गृह भी कहते हैं| ऑक्सीजन और पानी के फ़लस्वरूप इस गृह पर जीवन पाया जाता है|

मंगल गृह (Mars)

इसे लाल गृह भी कहते हैं| इस गृह का वातावरण लगभग पृथ्वी के सामान ही है| इसी कारण यहाँ जीवन की सर्वाधिक सम्भावना है| पृथ्वी से काफी मिलती-जुलती ऋतुएं पायी जाती है|

  • इस गृह पर नदियों के साथ-साथ भयंकर बाढ़ के भी प्रमाण हैं|
  • इसके वातावरण में नाइट्रोजन और आर्गन गैसें पाई जाती है|
  • पूरे सौर मंडल का सबसे ऊँचा पर्वत निक्स ओलम्पिया या ओलम्पस मॉन्स mars में ही है|
    • इसकी ऊंचाई माउंट एवरेस्ट से 3 गुना अधिक है|
  • मंगल के दो उपग्रह है फोबोस और डिमोस|
  • सूर्य से दूरी 1.52 au है|
  • यहाँ का एक दिन 24 घंटे 37 मिनट के बराबर होता है|
  • मंगल का एक साल 687 दिन का होता है|

बृहस्पति गृह (Jupiter)

बृहस्पति सौर मंडल का सबसे बड़ा गृह है| जो पृथ्वी से लगभग 1300 गुना बड़ा है| इसमें ठोस सतह का आभाव है अर्थात यह एक गैसीय गृह है|

  • इसके वायुमंडल में हाइड्रोजन और हीलियम गैसों की अधिकता है|
  • सभी ग्रहों में इसकी घूर्णन गति सबसे अधिक है|
  • बृहस्पति के उपग्रह: इसके 79 ज्ञात उपग्रह है| जैसे गेनीमेड, लो, यूरोपा, कैलिस्टो आदि|
  • गेनीमेड पूरे सोलर सिस्टम का सबसे बड़ा उपग्रह है|
  • इसकी सूर्य से औसत दूरी 5.20 au है|
  • इसका एक दिन पृथ्वी के 9 घंटे 50 मिनट के बराबर होता है|
  • इसका एक साल पृथ्वी के 11.86 साल के बराबर होता है|
  • मंगल और बृहस्पति के बीच एक asteroid belt पाई जाती है|

शनि (Saturn)

यह दूसरा सबसे बड़ा गृह है| इसमें सात छल्ले पाए जाते है| इस छल्लो की खोज गैलिलिओ ने करी थी|

  • शनि गृह पूरे सोलर सिस्टम में सबसे ज्यादा उपग्रहों वाला ग्रह है|
  • इसके 82 ज्ञात उपग्रह हैं| जैसे टाइटन, मीमास, टेथीस, एपिमेथियस आदि|
    • टाइटन सोलर सिस्टम का एकमात्र ऐसा उपग्रह है जिसके पास खुद का सघन वायुमंडल है|
    • टाइटन में बर्फ की मोटी परतों की नीचे तरल महासागर होने का भी अनुमान है|
  • इसका घनत्व सबसे कम (जल से भी कम) है|
  • इसकी सूर्य से दूरी 10.11 au है|
  • यहाँ एक दिन सिर्फ 10 घंटे 13 मिनट का होता है|
  • इस गृह का एक साल हमारे 29.46 साल का होता है|

अरुण गृह (Uranus)

यह एक ठंडा गृह है जिसके वायुमंडल में मीथेन की अधिकता है| यह गृह अपने अक्ष से 98° झुका होने के कारण लुढ़कता हुआ प्रतीत होता है|

सौर मंडल या सोलर सिस्टम की पूरी जानकारी | Solar System in Hindi
source- NASA

ये गृह हरे रंग का दिखाई देता है|

वरुण गृह (Neptune)

वरुण और अरुण गृह को जुड़वा गृह कहते है| क्योकि इन ग्रहो का आकार और रंग मिलता जुलता है|

  • मीथेन की अधिकता के कारण वरुण का प्रकाश हरे रंग का दिखाई देता है|
  • इसके वायुमंडल में एक काला धब्बा पाया जाता है जिसका आकार पृथ्वी के जितना है|

हमने सारे ग्रहों के बारे में तो जान लिया| अब चूँकि मैंने solar system in hindi के बारे में पूरी जानकारी देने की बात कही थी| इसलिए अब बात करते है हमारी पृथ्वी के एकलौते moon के बारे में|

चन्द्रमा (moon)

सौर मंडल या सोलर सिस्टम की पूरी जानकारी | Solar System in Hindi
  • चन्द्रमा पृथ्वी का एक मात्र उपग्रह है|
  • सतह का अध्ययन Selenology कहलाता है|
  • इसकी पृथ्वी से औसत दूरी 3,84,365 kms है|
  • चन्द्रमा पर पृथ्वी की तुलना में गुरुत्वाकर्षण केवल 1/6 है|
    • इसी कारण यहा गुरुत्वाकर्षण का आभाव है|
  • यहां दिन का तापमान 100°c और रात का तापमान -180°c होता है|
  • चन्द्रमा का आकार पृथ्वी का एक चौथाई है|
  • चन्द्रमा सामान समय में पृथ्वी का एक चक्कर भी लगता है और अपनी धुरी पर घूमता भी है| यह समय है 27.32 दिन|
    • इसी कारण पृथ्वी से चन्द्रमा का सिर्फ एक ही side दिखती है| जबकि दूसरी side को डार्क साइड कहा जाता है|
    • लेकिन इसका ये अर्थ कतई नहीं है कि वहां हमेशा अँधेरा रहता है|
  • चन्द्रमा के जिस स्थान पर नील आर्मस्ट्रांग और एडविन एल्ड्रिन ने कदम रखा था, उसे शांति का सागर या Sea of tranquility कहतें है|

आशा करता हूँ कि about solar system in hindi का यह आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा| यदि आपका कोई और सवाल हो तो आप नीचे कमेंट में हमसे पूछ सकते है| हम जल्दी ही आपको रिप्लाई करेंगे|

सौर मंडल का सबसे बड़ा उपग्रह कौन सा है?

सौर मंडल का सबसे बड़ा उपग्रह गैनीमेड है|

सौर मंडल का सबसे ऊँचा पर्वत कौन सा है?

सौर मंडल का सबसे ऊँचा पर्वत निक्स ओलम्पिया या ओलम्पस मॉन्स है|

सौर मंडल में कितने ग्रह हैं?

हमारे सौर मण्डल में 8 परंपरागत गृह हैं|


Share the knowledge

1 thought on “सौर मंडल या सोलर सिस्टम की पूरी जानकारी | Solar System in Hindi”

Leave a Comment