इक़्ता सिस्टम और दिल्ली सल्तनत का प्रशासन – Administration in Delhi Sultanate in Hindi

 यदि हम दिल्ली सल्तनत के बारे में जानना चाहते है तो सबसे पहले दिल्ली सल्तनत के प्रशासन के बारे में जानना चाहिए| इक़्ता सिस्टम के बारे में भी छात्रों को काफी सवाल रहतें है तो आज इसके बारे में बात करेंगे| 

इक़्ता सिस्टम और दिल्ली सल्तनत का प्रशासन - Administration in Delhi Sultanate in Hindi

 

दिल्ली सल्तनत का प्रशासन

  • दिल्ली सल्तनत में प्रशासन व्यवस्था इस्लाम (क़ुरान) पर आधारित थी| सल्तनत का राजधर्म इस्लाम था| 
  • सर्वप्रथम अलाउद्दीन ख़िलजी ने ख़लीफ़ा की सत्ता को चुनौती थी| और उसके नाम का ख़ुतबा पढ़ने और सिक्के ढालने की प्रथा को ख़तम कर दिया था|  

केंद्रीय प्रशासन

  • राज्य या सल्तनत का सर्वोच्च सेनापति तथा सर्वोच्च न्यायाधीश सुल्तान होता था| सुल्तान ही सभी विभागों का प्रमुख होता था|
  • सल्तनत काल में मंत्रिपरिषद को मजलिस-ए-ख़लवत कहा जाता था| हालाकिं सुल्तान इनकी सलाह मानने के लिए बाध्य नहीं होता था| 
  • राजधानी दिल्ली का प्रशासन कोतवाल करता था| कोतवाल ही सल्तनत के न्यायिक और पुलिस विभाग का अधिकारी होता था| 
  • मुहतसिब प्रजा के सामान्य आचरण पर नियंत्रण रखता था तथा नैतिक नियमों को शरीयत के अनुसार लागु करवाता था| 

दिल्ली सल्तनत के प्रमुख विभाग एवं उनके कार्य

दीवान-ए-वज़ारत– वित्त विभाग 

दीवान-ए-अर्ज़ – सैन्य विभाग 

दीवान-ए – मुस्तख़राज़ – राजस्व विभाग 

दीवान -ए – इंशा – पत्राचार विभाग 

दीवान-ए -रसालत – विदेश विभाग 

दीवान-ए -ख़ैरात – दान विभाग 

दीवान-ए -अमीर -कोही– कृषि विभाग 

दीवान-इ-बंदगान – दासों का विभाग 

दीवान-ए -इश्तिहाक – पेंशन विभाग 

दीवान-ए -वक़ूफ़ – व्यय विभाग 

दीवान-ए -रियासत – बाजार नियंत्रण विभाग 

दीवान -ए -ईमारत – लोक निर्माण विभाग 

 

ये भी पढ़ें Aryan invasion theory – Varna System in Vedic Civilization – प्राचीन भारत

 

दिल्ली सल्तनत के प्रमुख अधिकारी एवं उनके कार्य

वज़ीर– राजस्व विभाग का प्रधान 

आरिज़ -ए – मुमालिक – सैन्य विभाग का प्रधान 

दबीर-ए -ख़ास (अमीर मुंशी)– शाही पत्र-व्यवहार विभाग का प्रधान 

सद्र -उस -सुदूर-धर्म विभाग का प्रधान 

काजी-उल-कजात– न्याय विभाग का प्रधान 

बरीद -ए -मुमालिक– गुप्तचर विभाग का प्रधान 

आमिर-ए -आखूर – अश्वशाला का प्रधान 

मुंसिफ-ए -मुमालिक – महालेखाकार 

अमीर -ए -मुमालिक – महालेखाकार 

अमीर -ए -मजलिस– शाही उत्सवों का प्रधान 

खजीन – कोषाध्यक्ष 

कोतवाल– शहर की शांति व्यवस्था का सर्वोच्च अधिकारी 

 

दिल्ली सल्तनत का प्रांतीय प्रशासन तथा इक्ता व्यवस्था (Iqta System)

दिल्ली सल्तनत निम्न क्षेत्रीय इकाइयों में विभक्त थी – ग्राम- परगना – शिक – इक्ता – सल्तनत

  • दिल्ली सल्तनत इक़्ताओं (प्रान्त) में विभक्त थी| इक्ता का प्रधान वली, मुक्ति अथवा इक्तादार कहलाता था| 
  • इक्ताएँ जिलों में विभक्त थी जो शिक कहलाते थे| शिक का प्रधान शिकदार होता था| इक्ता को जिलों में विभाजित करने का काम बलबन के समय में किया गया था|
  • शिक परगनों में बंटा होता था| परगने में आमिल और मुंसिफ दो महत्वपूर्ण अधिकारी हुआ  करते थे| 
  • शासन की सबसे छोटी इकाई ग्राम होती थी| गांव के मुख्य अधिकारी पटवारी, चौधरी, खुत, मुकद्दम थे जो शासन को लगान वसूल करने में सहायता करते थे| गांव के मुखिया को मुकद्दम कहा जाता था तथा जमींदारों को खूत कहा जाता था|
  • खालसा (केंद्र शासित प्रदेश) के अधिकारी शहना कहलाते थे| 
  • इक्ता प्रणाली की शुरुआत इल्तुतमिश ने की थी| इस प्रणाली के अंतर्गत सैनिकों तथा राज्य के अधिकारियों को वेतन के बदले इक्ता या भूमि दी जाती थी।
  • फ़िरोज़शाह तुगलक के समय में सबसे ज्यादा इक्ताएँ थी| 

 

ये भी पढ़ें हिन्दू धर्म में विवाह के प्रकार – Types of Marriage in Hinduism

 

सल्तनतकालीन राजस्व प्रशासन

  • अलाउद्दीन ख़िलजी ने राजस्व बकाया की वसूली हेतु विजारत के अंतर्गत मुस्तखराज की स्थापना की थी| 
  • सिकंदर लोदी ने भूमि की पैमाइश के लिए गज-ए -सिकन्दरी   की स्थापना की थी| 
  • सल्तनत काल में राज्य की आय का प्रमुख स्रोत कृषि थी तथा कर नगद व अनाज दोनों रूपों में लिया जाता था|

सल्तनत काल में मुख्य पांच प्रकार के कर लगाए जाते थे –

  1. उश्र– मुसलमानों से लिया जाने वाला भूमि कर 
  2. ख़राज – गैर मुसलमानों पर धार्मिक कर 
  3. खम्स – युद्ध में लूट तथा जमीन में गड़े खजानों से प्राप्त धन में सरकारी हिस्सा होता था| जिसमें सुल्तान का 1/4 तथा सेना का 3/4 हिस्सा होता है| अलाउद्दीन ख़िलजी ने सुल्तान का हिस्सा 3/4 कर दिया था| तथा सेना को स्थाई वेतन देना शुरू कर दिया था| 
  4. जजिया– गैर मुसलमानों पर धार्मिक कर
  5. ज़कात – मुसलमानों पर धार्मिक कर
 

सल्तनत कालीन सैन्य प्रशासन 

सल्तनत काल में दो तरह की सेनाये होती थी एक सुल्तान के प्रत्यक्ष नियंत्रण वाली सेना (हश्म – ए -वल्ब) और दूसरी प्रांतीय सेना (हश्म -ए -वतरफ)| 

बरनी के अनुसार सल्तनत की सेना का वर्गीकरण निम्न प्रकार है-

  • सर खेल – 10 घुड़सवारों का प्रधान 
  • सिपहसालार – 10 सर खेलों का प्रधान 
  • अमीर – 10 सिपहसालारों का प्रधान 
  • मलिक – 10 अमीरों का प्रधान 
  • खान – 10 मलिकों का प्रधान 
  • सुल्तान – सभी खानों का प्रधान या सर्वोच्च सेनापति


सल्तनत कालीन न्याय व्यवस्था

 सल्तनत काल में मुस्लिम कानून के चार स्रोत थे –

  1. क़ुरान – यह मुस्लिम कानूनों का प्रमुख स्रोत है| 
  2. हदीस – इसमें पैगम्बर के कथनों एवं कार्यों का उल्लेख है| 
  3. इजमा – मुजतहिद द्वारा व्याख्या किया गया कानून 
  4. कयास – तर्क या विश्लेषण के आधार पर व्याख्या किया गया कानून

 

ये भी पढ़ेंआधुनिक भारत का इतिहास One Liner – Modern History of India Important One Liner In Hindi

Leave a Comment