List of UNESCO world heritage sites in India in हिंदी – प्रमुख विश्व विरासत स्थल

Share the knowledge

What are World Heritage Sites?

आज हम बात करेंगे की विश्व विरासत स्थल क्या है? या What are world heritage sites? पूरे विश्व में हजारों ऐसी जगहें है जिनका ऎतिहासिक, भौतिक या फिर सांस्कृतिक महत्त्व है| हमें ऐसी जगहों को सहेज कर रखने की जरुरत होती है| इसलिए प्रत्येक देश अपने प्रभाव क्षेत्र के तहत ऐसी जगहों को चिन्हित करता है| और उन्हें संरक्षित करता है| 

इसके अतिरिक्त यूनाइटेड नेशंस एजुकेशनल, साइंटिफिक एंड कल्चरल आर्गेनाईजेशन (UNESCO) पूरे विश्व में ऐसी जगहों की पहचान करता है और उन्हें यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित करता है| 

यूनेस्को विश्व विरासत स्थल कोई भी जगह हो सकती है जैसे कि जंगल, झील, भवन, द्वीप, पहाड़, स्मारक, रेगिस्तान, या एक शहर जिसका एक विशेष भौतिक या सांस्कृतिक महत्व है।

List of UNESCO world heritage sites in India

यदि आप जानना चाहतें हैं कि भारत में कितनी UNSECO वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स हैं? तो यहाँ हम List of UNESCO world heritage sites in India टॉपिक को कवर करेंगे| 

  • वर्तमान में दुनिया में 1092 विश्व विरासत स्थल हैं।
  • भारत में कुल 38 विरासत स्थल हैं।
  • भारत दुनिया में सबसे अधिक धरोहर स्थलों में छठे स्थान पर है।
  • 18 अप्रैल को अंतर्राष्ट्रीय विश्व विरासत दिवस के रूप में मनाया जाता है।

विश्व विरासत दिवस का उद्देश्य स्मारकों, धरोहर स्थलों और मानव विरासत के संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाना है|

UNESCO क्या है?

  • United Nations Educational, Scientific And Cultural Organization, जिसे यूनेस्को के रूप में जाना जाता है, एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है जो विज्ञान, संस्कृति, शिक्षा और संचार के संबंध में देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए काम करता है।
  • UNESCO का मुख्यालय पेरिस में स्थित है| 
  • यह संगठन संयुक्त राष्ट्र का एक हिस्सा है और विश्व स्तर पर शांति को बढ़ावा देता है।

UNESCO’s World Heritage mission

  • World Heritage Convention पर हस्ताक्षर करने और अपनी प्राकृतिक और सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देशों को प्रोत्साहित करना|
  • तकनीकी सहायता और पेशेवर प्रशिक्षण प्रदान करके विश्व विरासत संपत्तियों की सुरक्षा के लिए देशों की मदद करना।
  • आपातकालीन स्थिति में विश्व विरासत स्थलों के लिए सहायता प्रदान करना।
  • हमारे विश्व की सांस्कृतिक और प्राकृतिक विरासत के संरक्षण में स्थानीय, राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग को प्रोत्साहित करना।

List of UNESCO World Heritage Sites in India

जनवरी 2021 तक भारत में 38 विश्व धरोहर स्थल हैं जिनमें से 30 सांस्कृतिक स्थल हैं और 7 प्राकृतिक स्थल हैं और 1 का नाम मिश्रित स्थल में रखा गया है। भारत में सभी यूनेस्को विश्व विरासत स्थलों की सूची निम्न है-

List of UNESCO World Heritage Cultural Sites in India (30)

1: Agra Fort (1983)

ताजमहल के बगीचों के पास 16 वीं शताब्दी का महत्वपूर्ण मुगल स्मारक है, जिसे आगरा का लाल किला कहा जाता है।

2: Ajanta Caves (1983)

महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में अजंता की गुफाएँ चट्टान में कटी हुए बौद्ध गुफा स्मारक हैं जिनका निर्माण दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व से लगभग 480 या 650 ई.पू. के लगभग हुआ था|

3: Archaeological Site of Nalanda Mahavihara at Nalanda, Bihar (2016)

यह बिहार राज्य में स्थित है, इसमें ३ वीं शताब्दी ईसा पूर्व से १३ वीं शताब्दी ईसा पूर्व तक के एक धार्मिक और शैक्षिक संस्थान के पुरातात्विक अवशेष शामिल हैं।

4: Buddhist Monuments at Sanchi (1989)

सांची भारत में बौद्ध पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है। यह मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के सांची में स्थित है।

सांची में ग्रेट स्तूप भारत की सबसे पुरानी पत्थर की संरचना है और इसे मूल रूप से महान सम्राट अशोक द्वारा तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में संचालित किया गया था।

5: Champaner-Pavagadh Archaeological Park (2004)

पुरातात्विक, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक विरासत के गुणों को एक प्रभावशाली परिदृश्य में पिरोया गया|

इसमें प्रागैतिहासिक स्थल, एक प्रारंभिक हिंदू राजधानी का एक पहाड़ी किला और गुजरात राज्य की 16 वीं शताब्दी की राजधानी के अवशेष शामिल हैं।

6: Chhatrapati Shivaji Maharaj Terminus (2004) यह दो संस्कृतियों के मिलन का एक उत्कृष्ट उदाहरण है, क्योंकि ब्रिटिश वास्तुकारों ने भारतीय शिल्पकारों के साथ काम करके भारतीय स्थापत्य परंपरा को शामिल किया और मुंबई के लिए एक नई शैली तैयार की। यह उपमहाद्वीप का पहला टर्मिनस स्टेशन था।

Read MoreRamsar Sites in India in हिंदी – Updated List

7: Churches and Convents of Goa (1986)

वेल्हा ओल्ड गोवा के चर्च और कॉन्वेन्ट्स, भारत के इस हिस्से में पुर्तगाली शासन की निशानी है|

8: Elephanta Caves (1987) एलिफेंटा की गुफाएँ (मूल रूप से घारापुरी लेनि के रूप में जानी जाती हैं) एलीफेंटा द्वीप या घारापुरी (शाब्दिक रूप से “गुफाओं का शहर”) महाराष्ट्र में स्थित हैं।

गुफाओं के दो समूह हैं- पहला पाँच हिंदू गुफाओं का एक बड़ा समूह है, दूसरा, दो बौद्ध गुफाओं का एक छोटा समूह है।

9: Ellora Caves (1983)

एलोरा महाराष्ट्र में औरंगाबाद शहर से 29 किमी उत्तर-पश्चिम में एक पुरातात्विक स्थल है, जो 6 वीं और 9 वीं शताब्दी के दौरान कालाचूरी, चालुक्य और राष्ट्रकूट राजवंशों द्वारा बनाया गया था।

10: Fatehpur Sikri (1986) आगरा में फतेहपुर सीकरी 16 वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में सम्राट अकबर द्वारा बनवाया गया था।

11: Great Living Chola Temples (1987,2004)

ग्रेट लिविंग चोल मंदिर चोल साम्राज्य के राजाओं द्वारा बनाए गए थे, जो पूरे दक्षिण भारत और पड़ोसी द्वीपों पर फैला था।

12: Group of Monuments at Hampi (1986)

हम्पी में मुख्य रूप से अंतिम महान हिंदू साम्राज्य की राजधानी विजयनगर साम्राज्य (14 वीं -16 वीं शताब्दी) के अवशेष शामिल हैं। यह स्थान मध्य कर्नाटक के बेल्लारी जिले में तुंगभद्रा बेसिन में स्थित है।

13: Group of Monuments at Mahabalipuram (1984)

पल्लव राजाओं द्वारा स्थापित इन स्मारकों को 7 वीं और 8 वीं शताब्दी में कोरोमंडल तट के किनारे चट्टान से उकेरा गया था। यह विशेष रूप से अपने रथों, मंडपों के लिए जाना जाता है।

14: Group of Monuments at Pattadakal (1987)

पट्टदकल दक्षिण भारत के चालुक्य वंश की राजधानी बादामी से 22 कि.मी. और एहोल शहर से मात्र 10 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। एहोल को ‘स्थापत्य कला का महाविद्यालय’ तो पट्टदकल को ‘विश्वविद्यालय’ कहा जाता है।

आठवीं शताब्दी में चालुक्य वंश द्वारा बनवाये गये पट्टदकल के स्मारक हिन्दू मंदिर वास्तुकला में बेसर शैली के प्रयोग का चरम हैं।

15: Hill Forts of Rajasthan (2013)

राजस्थान के पहाड़ी किले जिसमें चित्तौड़गढ़, कुंभलगढ़, सवाई माधोपुर, झालावाड़, जयपुर और जैसलमेर के 6 राजसी किले शामिल हैं, लगभग बीस किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए हैं।

इन किलों में 8वीं शताब्दी से 18 वीं शताब्दी तक की राजपूताना साम्राज्य की विरासत को देखा जा सकता है। इन किलों के परिदृश्य की सुरक्षा के लिए प्राकृतिक साधनों जैसेः रेगिस्तान, नदियों, पहाड़ों, और घने जंगलों का इ्स्तेमाल किया गया है।

इन किलों में जल संरक्षण के लिए बड़े बड़े भवन बने हुए हैं जिनका प्रयोग आज भी किया जा रहा है।

16: Historic City of Ahmadabad (2017)

15वीं सदी में सुल्तान अहमद शाह द्वारा बसाया गया अहमदाबाद साबरमती नदी के पूर्वी तट पर बसा है. ये शहर में आर्किटेक्चर का बेहतरीन उदाहरण हैं|

भद्रा गढ़ा, किले की दीवारें और उसके गेट, कई मस्जिदें और मकबरें हैं| कई हिंदू और जैन मंदिर भी यहां हैं|

17: Humayun’s Tomb, Delhi (1993)

हुमायूँ का मकबरा दिल्ली के पुराने किला के पास स्थित है जो 1533 में हुमायूँ द्वारा स्थापित किया गया था। यह ऐसा पहला मकबरा है जिसका निर्माण के लिए लाल पत्थर का उपयोग किया गया है। इस मकबरे के अंदर कई स्मारक भी बने हुए हैं।

18: Jaipur City, Rajasthan (2019)

अपनी भव्य इमारतों और गौरवशाली इतिहास के चलते जयपुर का नाम इतिहास में प्रसिद्ध है। इसके अलावा यहाँ की जूलरी, हैंडिक्राफ्ट और भी चीजें दुनिया में अपनी पहचान बनाए हुए हैं।

19: Khajuraho Group of Monuments (1986)

भोपाल से 376 किलोमीटर दूर छतरपुर जिले के खजुराहो में स्थित चंदेल राजाओं द्वारा निर्माण कराए गए मंदिरों की सुंदरता को किसी परिचय की जरूरत नहीं है।

हिन्दू और जैन धर्म के मंदिरों का सबसे बड़ा समूह यहाँ स्थित है। उनमें विश्व की सबसे खूबसूरत और सबसे प्रसिद्ध विरासतों में से एक माना जाता है।

20: Mahabodhi Temple Complex at Bodh Gaya (2002)

महाबोधि मंदिर परिसर भगवान बुद्ध के जीवन से संबंधित चार पवित्र स्थानों में से एक है और विशेष रूप से इसे आत्मज्ञान की प्राप्ति के लिए जाना है।

पहले मंदिर का निर्माण स्कीमात अशोक ने तीसरा शताब्दी ई। पू किया था और वर्तमान मंदिरों को 5 वीं या 6 ठीं शताब्दी ईसा पूर्व के दौरान निर्मित किया गया था।

21: Mountain Railways of India (1999,2005,2008)

दार्जिलिंग हिमालयी रेलवे, नीलगिरि पर्वतीय रेलवे, और कालका-शिमला रेलवे को क्रमशः 1999, 2005 और 2008 में यूनेस्को द्वारा वैश्विक धरोहर स्थल का दर्जा प्रदान किया गया था।

दार्जिलिंग हिमालयी रेलवे (पश्चिम बंगाल) को 1881 में, नीलगिरि पर्वतीय रेलवे को 1908 में और कालका शिमला रेलवे को 1903 को यातायात के लिए शुरू किया गया था।

22: Qutub Minar and its Monuments, Delhi (1993)

कुतुब मीनार भारत में दिल्ली शहर के महरौली में ईंट से बनी, दुनिया की सबसे ऊँची मीनार है। दिल्ली को भारत का दिल कहा जाता है, यहाँ पर कई प्राचीन कंधे और धरोहर स्थित है। क़ुतुब मीनार की ऊंचाई 72.5 मीटर है।

23: Rani-ki-Vav (the Queen’s Stepwell) at Patan, Gujarat (2014)

रानी की वाव, वास्तुकला का बेजोड़ नमूना है। यह ऐतिहासिक इमारत गुजरात के पाटन गांव में स्थित है। सरस्वती नदी के किनारे स्थित इस वाव को निर्माण 11 वीं शताब्दी में हुआ माना जाता है।

24: Red Fort Complex (2007)

लाल किले को पांचवे मुगल बादशाह शाहजहाँ द्वारा 1639 में अपनी राजधानी शाहजहानाबाद के महल के रूप में बनाया गया था। इसका नाम लाल किला इसकी लाल बलुआ पत्थर की विशाल दीवारों की वजह से हुआ है।

25: Rock Shelters of Bhimbetka (2003)

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से महज 45 किलोमीटर दूर भीमबेटका में स्थित इन पांच पाषाण आश्रयों के समूह को साल 2003 में विश्व धरोहर स्थल का दर्जा प्राप्त हुआ था।

भीमबेटका पाषाण आश्रय विंध्य पर्वतमाला की तलहटी में मध्य भारत की पठार के दक्षिणी छोर पर बनी हुई गुफाओं का समूह है।

26: Sun Temple, Konârak (1984)

कोणार्क सूर्य-मन्दिर का निर्माण लाल रंग के बलुआ पत्थरों तथा काले ग्रेनाइट के पत्थरों से हुआ है। इसे 1236-64 ईसा पूर्व गंग वंश के तत्कालीन सामंत राजा नृसिंहदेव द्वारा बनवाया गया था।

यह मन्दिर, भारत के सबसे प्रसिद्ध स्थलों में से एक है।

27: Taj Mahal (1983)

ताजमहल के निर्माण का श्रेय पांचवें मुग़ल शासक शाहजहाँ को जाता है| शाहजहाँ ने भारत पर 1628 से 1658 तक शासन किया| शाहजहाँ ने अपनी सभी पत्नियों में प्रिय पत्नी मुमताज़ महल की याद में ताजमहल का निर्माण करवाया.

यह दुनिया के सात अजूबों (Seven Wonders of The World) में से एक है

28: The Architectural Work of Le Corbusier, an Outstanding, Contribution to the Modern Movement (2016)

29: The Jantar Mantar, Jaipur (2010)

जंतर मंतर को जयपुर के राजा सवाई जय सिंह ने बनवाया था| जंतर मंतर को बनाने का उद्देश्य अंतरिक्ष में होने वाली खगोलीय घटनाओं को जानने से संबंधित था|

उदाहरण के तौर पर जंतर मंतर के द्वारा तारों की गति, समय की चाल, व् ग्रहो से संबंधित स्थिति को समझने के लिए इसका निर्माण किया गया था|

30: Victorian Gothic and Art Deco Ensembles of Mumbai (2018)

बांबे हाईकोर्ट का भवन विक्टोरियन गोथिक शैली का बेहतरीन नमूना है। इस भवन के आस-पास विशाल मैदान है। विक्टोरियन गोथिक का निर्माण 19वीं सदी में हुआ था।बांबे हाईकोर्ट के भवन का निर्माण 1871 में शुरू हुआ और 1878 में पूरा हुआ। तब 16.44 लाख में बना था|

Natural Sites (7)

31: Great Himalayan National Park Conservation Area (2014)

32: Kaziranga National Park (1985)

33: Keoladeo National Park (1985)

34: Manas Wildlife Sanctuary (1985)

35: Nanda Devi and Valley of Flowers National Parks (1988,2005)

36: Sundarbans National Park (1987)

37: Western Ghats (2012)

  • Mixed Sites (1)

38: Khangchendzonga National Park (2016)


Share the knowledge

Leave a Comment